24 करोड़ के फायदे में एमपीसीए, फिर भी कमाई के लिए महंगे किए टिकट

0
4

इंदौर. मप्र क्रिकेट एसोसिएशन (एमपीसीए) ने 24 सितंबर को होने वाले भारत-ऑस्ट्रेलिया वनडे के टिकट के दाम 34 फीसदी बढ़ाए हैं। इस वृद्धि के पीछे एसोसिएशन ने स्टेडियम का बढ़ता मेंटनेंस खर्च, लोगों की बढ़ती आय, आईपीएल में खरीदे गए महंगे टिकट और बीते कई सालों से टिकट दर नहीं बढ़ाने जैसे कारणों का हवाला दिया है।

इस इजाफे के साथ ही बढ़ी हुई दर पर 28% जीएसटी भी लग गया। इससे टिकट 70% से ज्यादा महंगे हो गए। इसके बावजूद एमपीसीए को टिकट बिक्री से डेढ़ से दो करोड़ रुपए ही मिलेंगे। यानी इससे एमपीसीए की कमाई पर कोई खास फर्क नहीं पड़ता। वैसे भी संस्था का पूरा कामकाज बीसीसीआई से मिलने वाले अनुदान से चलता है। संस्था को हर साल 20 करोड़ से ज्यादा का अनुदान मिलता है और इस बार तो बीसीसीआई ने 42 करोड़ दिए, इसके चलते अगस्त की एजीएम में एसोसिएशन ने 24 करोड़ से ज्यादा के फायदे की बैलेंस शीट पेश की।
निगम से टैक्स में मांगी थी छूट
टिकट बिक्री से कमाई करने की सोच रहे एमपीसीए ने एक साल पहले नगर निगम द्वारा संपत्ति कर को लेकर की गई कार्रवाई से बचने के लिए तर्क दिया था कि वह अलाभकारी संस्था है। एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने निगम से कहा था कि उन्हें संपत्ति कर से छूट मिलना चाहिए, जबकि टैक्स राशि केवल 26 लाख रुपए थी।

15 सितंबर से मिलेंगे ऑनलाइन टिकट
होलकर स्टेडियम में खेले जाने वाले इस वनडे मैच के ऑनलाइन टिकट 15 आैर 16 सितंबर को सुबह 11 से शाम 5 बजे तक www.ticketgenie.in पर उपलब्ध होंगे। काउंटर टिकटों की बिक्री 19 आैर 20 को सुबह 10 से शाम 5 बजे तक होलकर स्टेडियम से होगी। दर्शक केवल दो ही टिकट ऑनलाइन आैर काउंटर के माध्यम से खरीद सकेंगे। विद्यार्थियों के लिए केवल एक टिकट उपलब्ध रहेगा।

एसो. ने 1000 रु., दो हजार, ढाई हजार रु. वाले टिकट ही नहीं रखे। या तो दर एक हजार से नीचे है या चार हजार से अधिक। इससे मध्यमवर्ग क्रिकेट से दूर हो चुका है।

NO COMMENTS